NATIONAL

Bihar Election Phase-1पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर 1066 प्रत्याशी की किस्मत का फैसला EVM मे कैद

बिहार विधानसभा चुनाव-2020 के पहले चरण का मतदान आज से शुरू हो गया है। पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू हो जाएगी। कुल 1066 प्रत्याशी मैदान में हैं, जिनमें 114 महिला और 952 पुरुष हैं। आठ मंत्रियों की किस्मत का फैसला आज के मतदान मे होना है।

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के 42 प्रत्याशी मैदान में हैं। इनही सीटों से पिछली बार (2015 के विधानसभा चुनाव में) लालू की पार्टी राजद (RJD) के 27 विधायक जीतकर आए थे। गठबंधन का नेतृत्व कर रहे तेजस्वी यादव जो पहली बार विधानसभा चुनाव में अपनेके लिए भी पहला दौर बेहद महत्वपूर्ण है। दलों के हिसाब से देखें तो पहले चरण में RJD के सबसे ज्यादा 25 विधायक मैदान में हैं। दूसरे नंबर पर JDU है, जिसके 23 विधायक हैं। भाजपा के 13 और कांग्रेस के 8 विधायक हैं।

बिहार का यह चुनाव इसलिए भी अहम है क्योंकि कोरोना महामारी के बीच यह दुनिया का पहला बड़ा चुनाव है। इससे पहले कई देश संक्रमण फैसले के डर से अपने यहां चुनाव टाल चुके हैं। बिहार चुनाव के दौरान कोरोना महामारी को फैसले से रोकने के लिए पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं।

बिहार में तीन चरणों में मतदान हो रहा है। पहले चरण में मतदान 28 अक्टूबर को होगा। 94 सीटों के लिए दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर को होगा और शेष 78 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा। नतीजो का ऐलान 10 नवम्बर को होगा। 

चुनाव मे जोरों की बयान बाजी

पहले चरण की वोटिंग से पहले बिहार में नेताओं के बीच जमकर बयानबाजी हुई। चिराग पासवान ने सोमवार को शराबबंदी की आड़ में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तल्ख टिप्पणी की थी। जवाबी बयान में जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और जल संसाधन मंत्री संजय झा ने चिराग को जमूरा तक कह डाला। जदयू के इस बयान पर चिराग ने फिर पलटवार करते हुए कहा की “नीतीश कुमार से पूछा- मुझे जमूरा कहा जा रहा है तो आखिर मदारी कौन है? मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हूं। जदयू नेता संजय झा से प्रधानमंत्री को मदारी बोलकर उनका अपमान किया है। जदयू हमेशा से प्रधानमंत्री का अपमान कर रहा है।”

वहीं एक अन्य रैली में नीतीश कुमार ने चुनावी सभा में कह दिया कि आठ-आठ, नौ-नौ बच्चे पैदा करने वाले बिहार का विकास करने चले हैं। बेटे की चाह में कई बेटियां हो गईं। इसका सीधा अर्थ है कि बेटियों पर भरोसा नहीं है। लालू प्रसाद के बेटे और राजद नेता तेजस्वी ने ट्वीट कर इसका जवाब दिया है। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार मानसिक और शारीरिक रूप से थक चुके हैं। इसलिए उनका जो मन करे, वो बोलें। उनकी हर बात को आशीर्वाद के रूप में ले रहा हूं। इस तरह के सवाल उठाकर नीतीश कुमार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साध रहे, जो छह भाई बहन हैं। नीतीश जी ने महिलाओं और मेरी मां की भावना का मजाक उड़ाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *