Others

नेशनल बुक ट्रस्ट दे रहा है 100 से भी ज्यादा मुफ्त पीडीएफ पुस्तकें

लेखक – हरीश जैन

कोरोना वायरस की मार पूरा विश्व झेल रहा है। भारत सहित अनेक देशों में सरकारी तथा गैर-सरकारी दफ्तरों तथा सभी प्रकार के कार्य बंद होने के कारण सभी लोगों को Workfromhome करने की सलाह दी गई है ताकि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सामाजिक दूरी को बनाए रखा जा सके।

भारत सरकार तथा सभी राज्य सरकारें अपने-अपने स्तर पर इस वायरस से निपटने के लिए प्रयास कर रही हैं। इसी दिशा में लोगों को घरों से बाहर न निकलने देने की मुहिम में StayIn और StayHome को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार के सभी मंत्रालय विभिन्न तरह के प्रयास कर रहे हैं। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने रामायण और महाभारत सीरियलों का दुबारा प्रसारण करने को कहा है।

वहीं, मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अंतर्गत नेशनल बुक ट्रस्ट लोगों को घर में ही रहकर किताबें पढ़ने को प्रोत्साहित करने के लिए अपनी सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबें मुफ्त में डाउनलोड करने की सुविधा उपलब्ध करा रहा है। यह पहल StayHomeIndiaWithBooks के अंतर्गत की गई है। आप नेशनल बुक ट्रस्ट की वेबसाइट https://nbtindia.gov.in से लगभग 100 पीडीएफ पुस्तकों को विभिन्न भाषाओं में डाउनलोड कर सकते हैं। सरकार की तरफ से कल जारी की गई एक विज्ञप्ति में यह सूचना दी गई है।

ये पुस्तकें जीवनी, लोकप्रिय विज्ञान, शिक्षक की पुस्तिका सहित हर तरह की शैलियों में उपलब्ध हैं। ये पुस्तकें हिंदी, अंग्रेजी, असमिया, बांग्ला, गुजराती, मलयालम, उड़िया, मराठी, कोकबोरोक, मीजो, बोडो, नेपाली, तमिल, पंजाबी, तेलुगु, कन्नड़, उर्दू और संस्कृत भाषा में उपलब्ध हैं।

ये पुस्तकें बच्चों और युवा, वयस्कों और वृद्धों सभी को पसंद आने वाली पुस्तकें हैं। पुस्तक मेलों में इन पुस्तकों को खरीदने की होड़ लग जाती है। बच्चों के लिए आँखों देखी, बोलती चिड़िया, बूढ़ा घडियाल, आबे, दादी की दादी जैसी कई रोचक पुस्तकें हैं। वहीं व्यस्क पाठकों के लिए टैगोर, प्रेमचंद और महात्मा गांधी की पुस्तकें मुफ्त में उपलब्ध हैं।

पुस्तकों की सूची विस्तार से देखने तथा डाउनलोड करने के लिए https://nbtindia.gov.in/home__90__freebooks.nbt पर उपलब्ध है।

 

लेखक भारतीय संसद में कार्यरत हैं और आकाशवाणी में संपादक के रूप में जुड़े हुए हैं।


Discover more from VSP News

Subscribe to get the latest posts to your email.

Leave a Reply