NATIONAL विचार

आज है स्वतंत्रता सेनानी शहीद भगत सिंह की 113वीं जयंती, उनके लिखे कुछ प्रसिद्ध नारे जिससे भारत में क्रांति की लहर सी दौड़ पड़ी थी

28 सितंबर, 1907 को बंगा, पंजाब (वर्तमान पाकिस्तान) में जन्मे भगत सिंह, और उस दिन भारत को मिला एक महान वीर। अगर भारत में हर व्यक्ति, वयस्कों और बच्चों को समान रूप से ज्ञात एक क्रांतिकारी है, तो वह भगत सिंह के अलावा कोई नहीं है।

उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए 23 वर्ष की आयु में अपना जीवन खो दिया। सिंह, एक भारतीय समाजवादी को 23 मार्च, 1931 को अपने दोस्तों राजगुरु और सुखदेव के साथ भारत में अंग्रेजों के खिलाफ हिंसा में लिप्त होने के के कारण फांसी दी गयी थी।

भारत की स्वतंत्रता उनके लिए इतनी महत्वपूर्ण थी की वह अपना जीवन न्यौछावर करते वक़्त खुशी से मुस्कुरा रहे थें।

भगत सिंह का जन्म किशन सिंह और विद्यावती के साथ ब्रिटिश भारत के पंजाब प्रांत में हुआ था। उनके जन्म के दिन, उनके पिता और दो चाचा, अजीत सिंह और स्वर्ण सिंह को जेल से रिहा किया गया था। उनका परिवार हमेशा राजनीति में एक सक्रिय भागीदार था। कम उम्र में, सिंह ने आर्य समाजी संस्था दयानंद एंग्लो-वैदिक हाई स्कूल में अध्ययन किया।

इस तथ्य में कोई संदेह नहीं है कि आर्य समाज दर्शन ने उनके जीवन को बहुत प्रभावित किया। क्रांति की भावना के साथ उनकी पहली मुलाकात 1919 में हुई थी, जब उन्होंने 12 साल की उम्र में जलियांवाला बाग हत्याकांड के स्थल का दौरा किया था। वह 14 साल की उम्र में अपने गांव में प्रदर्शनकारियों में से एक बन गए थे, और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। बाद में वह युवा क्रांतिकारी आंदोलन में शामिल हो गए और भारत में ब्रिटिश सरकार के हिंसक उखाड़ फेंकने का समर्थन किया। 1923 में, सिंह लाहौर के नेशनल कॉलेज में शामिल हो गए। वह एक उज्ज्वल छात्र थे, जिसने अपने कॉलेज के दिनों में कई पुरस्कार और मान्यताएं जीतीं।

बाद में, सिंह ने मार्च 1926 में भारतीय समाजवादी युवा संगठन नौजवान भारत सभा की स्थापना की। उन्होंने कई दैनिक समाचार पत्रों और समाचार पत्रों के लिए भी लिखा। सिंह ने कभी शादी नहीं की और भारत की स्वतंत्रता को अपना एकमात्र उद्देश्य माना।

उनके लिखे कुछ प्रसिद्ध नारे जिससे भारत में क्रांति की लहर सी दौड़ पड़ी थी:

1. इंकलाब जिंदाबाद

2. राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूं जो जेल मे भी आज़ाद है।

3. साम्राज्यवाद का नाश हो।

4. ज़रूरी नहीं था की क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो, यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था।

5. प्रेमी, पागल, और कवी एक ही चीज से बने होते हैं।

6. क्रांति मानव जाति का एक अपरिहार्य अधिकार है। स्वतंत्रता सभी का एक कभी न ख़त्म होने वाला जन्म-सिद्ध अधिकार है। श्रम समाज का वास्तविक निर्वाहक है।

7. व्यक्तियो को कुचल कर, वे विचारों को नहीं मार सकते।

8. निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम लक्षण हैं।

9. मैं एक मानव हूं और जो कुछ भी मानवता को प्रभावित करता है उससे मुझे मतलब है।

10. बम और पिस्तौल क्रांति नहीं लाते, क्रान्ति की तलवार विचारों के धार बढ़ाने वाले पत्थर पर रगड़ी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.